ताज़ा न्यूज़
पीएम मोदी का बिहार दौरा : स्वागत में गुलाब, मंच पर नीतीश की नसीहत, पासवान ने कहा- आरक्षण जन्म सिद्ध अधिकार, 5 बड़ी बातें

पीएम मोदी का बिहार दौरा : स्वागत में गुलाब, मंच पर नीतीश की नसीहत, पासवान ने कहा- आरक्षण जन्म सिद्ध अधिकार, 5 बड़ी बातें

पटना: बिहार में हुई सांप्रदायिक हिंसा से बीजेपी और जेडीयू के बीच आई तल्खी और राम विलास पासवान की मुस्लिम वोटबैंक की चिंता के बीच आज पीएम मोदी जब मोतीहारी में आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे तो मंच पर नजारा देखने लायक था. पीएम मोदी ने आज यहां पर नया नारा दिया ‘सत्याग्राह से स्वच्छाग्रह’. इसके साथ ही उन्होंने जेडीयू के संबंधों में आई तल्खी दूर करने की भी कोशिश की. उन्होंने नीतीश सरकार के कामकाज की तारीफ और कहा कि नीतीश जी और सुशील जी के नेतृत्व में बिहार ने जो कार्य बीते दिनों करके दिखाया है, उसने सभी का हौसला बढ़ा दिया है.

ने कहा, बिहार एक मात्र ऐसा राज्य था, जहां स्वच्छता का दायरा 50% से कम था. लेकिन मुझे बताया गया कि एक हफ्ते के स्वच्छाग्रह अभियान के बाद बिहार ने इस बैरियर को तोड़ दिया. पिछले एक हफ्ते में बिहार में 8 लाख 50 हजार से ज्यादा शौचालयों का निर्माण किया गया है.

ने यहां मंगलवार को कहा कि इस देश से आरक्षण कोई समाप्त नहीं कर सकता. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि देश को पहली बार ऐसा प्रधानमंत्री मिला है, जिसकी नीयत भी साफ है और नीति भी स्पष्ट है. पासवान ने कहा कि आरक्षण हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और उसे कोई नहीं छीन सकता. प्रधानमंत्री खुद कह चुके हैं कि आरक्षण समाप्त होने का प्रश्न ही नहीं उठता.
पासवान ने कहा कि महात्मा गांधी के दो हथियार थे सत्याग्रह और स्वच्छता. उन्होंने कहा कि अफ्रीका के बाद गांधी जी का सत्याग्रह चंपारण में सफल रहा. इस सत्याग्रह ने देश को दिशा दी। यहां उन्होंने स्वच्छता व सत्याग्रह का सबक दिया.
उन्होंने कहा कि जैसे गांधी के नाम से ‘सत्याग्रह’ जुड़ा है, वैसे ही नरेंद्र मोदी के नाम से ‘स्वच्छता’ जुड़ जाएगा. उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि आज समाज में हिंसा फैलाने के लिए विपक्ष तरह-तरह की बात कर रहा है, समाज को तोड़ने का प्रयास कर रहा है. उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस के लोग छोले-भटूरे खाकर राजघाट पर सत्याग्रह कर रहे हैं.

ने कहा कि देश प्रेम और सद्भाव से आगे बढ़ेगा तनाव और टकराव से आगे नहीं जा सकता. हमें सभी धर्मों की इज्जत और बिरादरी का सम्मान करना होगा.

Comments are closed.

Scroll To Top